Friday, March 1, 2024
No menu items!
Google search engine
Homeबेबस नेताराहुल गांधी ने लंदन में RSS को बताया 'कट्टरपंथी' और 'फासीवादी' संगठन

राहुल गांधी ने लंदन में RSS को बताया ‘कट्टरपंथी’ और ‘फासीवादी’ संगठन

विशेष संवाददाता

नई दिल्ली। कांग्रेस नेता राहुल गांधी ने लंदन के चैथम हाउस में एक बातचीत में राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ (RSS) को एक ‘कट्टरपंथी’ और ‘फासीवादी’ संगठन करार दिया और आरोप लगाया कि इसने भारत के लगभग सभी संस्थानों पर कब्जा कर लिया है।

आरएसएस ने भारत के सभी संस्थापनों पर किया कब्जा

राहुल गांधी ने कहा, “भारत में लोकतांत्रिक प्रतियोगिता की प्रकृति पूरी तरह से बदल गई है और इसका कारण यह है कि आरएसएस नामक एक संगठन – एक कट्टरपंथी, फासीवादी संगठन ने मूल रूप से भारत के सभी संस्थानों पर कब्जा कर लिया है।”

भारतीय लोकतंत्र में गंभीर समस्या है

कांग्रेस सांसद ने भारत में दलितों और अल्पसंख्यकों की स्थिति पर प्रकाश डाला। उन्होंने कहा, ”भारत में आप देख सकते हैं कि दलितों, आदिवासियों और अल्पसंख्यकों के साथ क्या हो रहा है। ऐसा नहीं है कि यह सिर्फ कांग्रेस कह रही है। विदेशी मीडिया में हर समय ऐसे लेख आते हैं कि भारतीय लोकतंत्र में गंभीर समस्या है।”

प्रेस से लेकर चुनाव आयोग तक सभी खतरे में

कांग्रेस नेता ने यह भी उल्लेख किया कि कैसे देश में विभिन्न संस्थान खतरे में थे। उन्होंने कहा, “इसने मुझे झकझोर दिया कि वे हमारे देश के विभिन्न संस्थानों पर कब्जा करने में कितने सफल रहे हैं। प्रेस, न्यायपालिका, संसद और चुनाव आयोग सभी खतरे में हैं और किसी न किसी तरह से नियंत्रित हैं।” राहुल गांधी ने कहा, “आप किसी भी विपक्षी नेता से पूछ सकते हैं कि एजेंसियों का उपयोग कैसे किया जाता है। मेरे फोन में पेगासस था, जो तब नहीं हो रहा था जब हम सत्ता में थे।”

पेगासस का किया जा रहा था इस्तेमाल

इससे पहले, कांग्रेस नेता ने कैंब्रिज विश्वविद्यालय में एक व्याख्यान के दौरान केंद्र पर तीखा हमला किया, जिसमें उन्होंने आरोप लगाया था कि भारतीय लोकतंत्र की बुनियादी संरचना पर हमला किया गया है और इजरायली स्पाईवेयर पेगासस का इस्तेमाल उनके फोन की जासूसी करने के लिए किया जा रहा था। 

‘मेरे फोन में पेगासस था’

राहुल ने दावा किया कि उन्हें खुफिया अधिकारियों ने फोन पर बात करते समय “सावधान” रहने की चेतावनी दी थी क्योंकि उनकी कॉल रिकॉर्ड की जा रही थी। उन्होंने कहा, “मेरे फोन पर पेगासस था। बड़ी संख्या में राजनेताओं के फोन पर पेगासस था। मुझे खुफिया अधिकारियों ने बुलाया है, जिन्होंने मुझसे कहा, ‘कृपया इस बारे में सावधान रहें कि आप फ़ोन पर क्या कह रहे हैं, क्योंकि हम एक तरह से चीजें रिकॉर्ड कर रहे हैं।’ तो यह वह निरंतर दबाव है, जो हम महसूस करते हैं।”

RELATED ARTICLES

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisment -
Google search engine

Most Popular

Recent Comments