Tuesday, February 27, 2024
No menu items!
Google search engine
Homeबेबस नेतादिल्ली के काम रोकने के लिए अध्यादेश लाकर सुप्रीम कोर्ट के फैसले...

दिल्ली के काम रोकने के लिए अध्यादेश लाकर सुप्रीम कोर्ट के फैसले को पलटा : संजय सिंह

नई दिल्ली। आम आदमी पार्टी ने एक अध्यादेश लाकर सुप्रीम कोर्ट के संविधान पीठ के फैसले को पलटने पर केंद्र की मोदी सरकार पर शनिवार को तीखा हमला बोला। ‘‘आप’’ के वरिष्ठ नेता एवं राज्यसभा सदस्य संजय सिंह ने कहा कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी, सीएम अरविंद केजरीवाल से बहुत भयभीत हैं और वे नहीं चाहते हैं कि दिल्ली में जनता का कोई काम हो। दिल्लीवालों के काम रोकने के लिए ही मोदी सरकार ने यह अध्यादेश लाकर अफसरों के ट्रांसफर-पोस्टिंग को लेकर सुप्रीम कोर्ट के दिए फैसले को पलट दिया है। अब यह सवाल केवल अरविंद केजरीवाल और आम आदमी पार्टी का नहीं रह गया है, बल्कि अब यह सवाल भारत के महान लोकतंत्र, संविधान और सुप्रीम कोर्ट की प्रतिष्ठा का हो गया है। उन्होंने कहा कि यह पूरी तरह से तुगलकी अध्यादेश है जो सुप्रीम कोर्ट और संविधान के खिलाफ है। साथ ही, यह पीएम मोदी की तानाशाही का प्रतिक भी है। हमें पूरी उम्मीद है कि जब ये मामला सुप्रीम कोर्ट में जाएगा, तब कोर्ट इसका संज्ञान अवश्य लेगा। आम आदमी पार्टी के वरिष्ठ नेता एवं राज्यसभा सदस्य संजय सिंह ने सुप्रीम कोर्ट के फैसले को पलटने के लिए केंद्र सरकार द्वारा लाए गए अध्यादेश को लेकर शनिवार को पार्टी मुख्यालय में प्रेस वार्ता की। उन्होंने कहा कि अरविंद केजरीवाल देश के लोकप्रिय नेता हैं और दिल्ली की जनता ने उन्हें तीन बार चुना है। जनता ने उनको 90 प्रतिशत से अधिक सीटें देकर चुना। आज अरविंद केजरीवाल से केंद्र की मोदी सरकार बहुत भयभीत है और उसका एक ही मकसद है कि किसी भी हालत में अरविंद केजरीवाल की सरकार को चलने नहीं देना है, अरविंद केजरीवाल को दिल्ली की दो करोड़ जनता के हितों में काम नहीं करने देना है। कुछ भी हो जाए लेकिन दिल्ली के बच्चों की पढ़ाई नहीं होनी चाहिए, मोहल्ला क्लीनिक नहीं बनना चाहिए, बुजुर्गों की तीर्थ यात्रा नहीं होनी चाहिए, फ्री बिजली और इलाज नहीं मिलनी चाहिए। घर-घर राशन भी नहीं पहुंचना चाहिए। मोदी सरकार को इन सारे कामों को रोकना है। क्योंकि दिल्ली की जनता ने अपने बेटे अरविंद केजरीवाल को 90 प्रतिशत सीटें देकर मुख्यमंत्री बना दिया। इसलिए अरविंद केजरीवाल को रोकना चाहते हैं।

RELATED ARTICLES

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisment -
Google search engine

Most Popular

Recent Comments