Friday, March 1, 2024
No menu items!
Google search engine
Homeखास खबरनए केंद्रीय सतर्कता आयुक्त बने प्रवीण कुमार श्रीवास्तव, राष्ट्रपति ने दिलाई पद...

नए केंद्रीय सतर्कता आयुक्त बने प्रवीण कुमार श्रीवास्तव, राष्ट्रपति ने दिलाई पद की शपथ

नई दिल्ली। राष्ट्रपति भवन द्वारा जारी एक बयान में कहा गया है कि सतर्कता आयुक्त प्रवीण कुमार श्रीवास्तव को सोमवार को राष्ट्रपति द्रौपदी मुर्मु ने केंद्रीय सतर्कता आयुक्त के रूप में शपथ दिलाई।
प्रोबिटी वॉचडॉग के प्रमुख के रूप में सुरेश एन पटेल का कार्यकाल पूरा होने के बाद श्रीवास्तव पिछले साल दिसंबर से केंद्रीय सतर्कता आयुक्त (सीवीसी) के रूप में काम कर रहे थे। एक आधिकारिक बयान में कहा गया कि आज सुबह 10.30 बजे राष्ट्रपति भवन में आयोजित समारोह में प्रवीण कुमार श्रीवास्तव ने केंद्रीय सतर्कता आयुक्त के रूप में शपथ ली। उन्होंने राष्ट्रपति के समक्ष शपथ ली और उस पर हस्ताक्षर किए।ष् समारोह में उपराष्ट्रपति जगदीप धनखड़ और प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी सहित अन्य गणमान्य व्यक्तियों ने भाग लिया।
केंद्रीय सतर्कता आयोग का नेतृत्व केंद्रीय सतर्कता आयुक्त करता है और इसमें अधिकतम दो सतर्कता आयुक्त हो सकते हैं। केंद्रीय सतर्कता आयोग में एक सतर्कता आयुक्त का पद रिक्त है। खुफिया ब्यूरो (आईबी) के पूर्व प्रमुख अरविंद कुमार एकमात्र सतर्कता आयुक्त हैं। एक सीवीसी और सतर्कता आयुक्त का कार्यकाल चार साल या पदधारी के 65 वर्ष की आयु प्राप्त करने तक का होता है।
श्रीवास्तव असम-मेघालय कैडर के 1988-बैच के भारतीय प्रशासनिक सेवा के रिटायर्ड अधिकारी हैं। वह पिछले साल 31 जनवरी को कैबिनेट सचिवालय के सचिव पद से रिटायर हुए थे। गृह मंत्रालय में विशेष सचिव और अतिरिक्त सचिव के रूप में अपने कार्यकाल के दौरान, उन्होंने भारतीय पुलिस सेवा के कैडर प्रबंधन, केंद्रीय सशस्त्र पुलिस बलों और केंद्र शासित प्रदेशों के कर्मियों और सामान्य प्रशासन से संबंधित मामलों को संभाला था। श्रीवास्तव ने वाणिज्य विभाग के निदेशकध्उप सचिव के रूप में विश्व व्यापार संगठन (डब्ल्यूटीओ) के तहत सेवाओं में व्यापार से संबंधित वार्ताओं में सरकार की सहायता की थी। उन्होंने राइट्स लिमिटेड में मुख्य सतर्कता अधिकारी और जवाहरलाल नेहरू राष्ट्रीय शहरी नवीकरण मिशन (जेएनएनयूआरएम) के संयुक्त सचिव और मिशन निदेशक के रूप में भी कार्य किया।

RELATED ARTICLES

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisment -
Google search engine

Most Popular

Recent Comments