Sunday, February 25, 2024
No menu items!
Google search engine
Homeखास खबरदिल्ली में G-20 शिखर सम्मेलन को लेकर भव्य तैयारियां जोरों पर

दिल्ली में G-20 शिखर सम्मेलन को लेकर भव्य तैयारियां जोरों पर

नई दिल्ली। इस साल जी20 की अध्यक्षता भारत कर रहा है, इसलिए जी20 शिखर सम्मेलन 9 और 10 सितंबर को राष्ट्रीय राजधानी दिल्ली में होने जा रहा है। दुनिया के सबसे ताकतवर देशों के नेता और राजनयिक दिल्ली में जुटेंगे। यह जी20 का अब तक का सबसे बड़ा आयोजन होगा। इसमें कुल 43 देशों और संगठनों के प्रमुख और उनके प्रतिनिधिमंडल भाग लेंगे। जिसमें जी20 के 19 सदस्य देश और यूरोपीय संघ के प्रमुख होंगे। साथ ही 9 अन्य देशों के प्रमुखों और 14 अंतरराष्ट्रीय संगठनों के प्रमुखों को भी अतिथि के रूप में आमंत्रित किया गया है। जी20 दुनिया की प्रमुख विकसित और विकासशील अर्थव्यवस्थाओं का एक अंतरसरकारी मंच है। इस समूह में भारत, अर्जेंटीना, ऑस्ट्रेलिया, ब्राजील, कनाडा, चीन, फ्रांस, जर्मनी, इंडोनेशिया, इटली, जापान, दक्षिण कोरिया, मैक्सिको, रूस, सऊदी अरब, दक्षिण अफ्रीका, तुर्की, ब्रिटेन, अमेरिका और यूरोपीय संघ (ईयू) शामिल हैं। हैं भारत ने इस बार जी20 की अध्यक्षता 1 दिसंबर, 2022 को इंडोनेशिया से संभाली। जी20 की थीम ‘वसुधैव कुटुंबकम’ है Also Read – दस साल में सबसे कमजोर मानसून: अगस्त में 114 मिमी बारिश, सिर्फ 30।92 मिमी जी20 की थीम ‘वसुधैव कुटुंबकम’ यानी ‘एक पृथ्वी, एक परिवार, एक भविष्य’ है। इस शिखर सम्मेलन का केंद्र प्रगति मैदान में नवनिर्मित भारत मंडप होगा। इसमें हिस्सा लेने आ रहे नेता और राजनयिक दिल्ली और एनसीआर के अलग-अलग हिस्सों में रुकेंगे। दिल्ली में इसके लिए खास तैयारियां की जा रही हैं। पूरी दिल्ली खासकर आयोजन स्थल और आसपास के इलाकों को सजाया जा रहा है। भारत की विविधता को अचंभे से देख रही है प्रधानमंत्री ने जी20 की अध्यक्षता को खास माना और कहा कि, आज भारत को जी20 सम्मेलन की मेजबानी करने का मौका मिला है। पिछले एक साल से देश के कोने-कोने में जी-20 के कई आयोजन और कार्यक्रम हो चुके हैं। दुनिया को देश के आम लोगों की ताकत से अवगत कराया। दुनिया भारत की विविधता से आश्चर्यचकित है, जिससे भारत का आकर्षण बढ़ा है पीएम ने कहा कि जी20 के अध्यक्ष के रूप में भारत द्वारा चुनी गई थीम वैश्विक सद्भाव को दर्शाती है। ‘वसुधैव कुटुंबकम’ थीम से पता चलता है कि दुनिया का साझा, परस्पर जुड़ा हुआ भविष्य है। इसलिए हमारे फैसले और हित भी एक जैसे होने चाहिए।प्रधानमंत्री ने कहा, 5 सितंबर से 15 सितंबर तक काफी असुविधा होगी और इसके लिए मैं पहले से माफी मांगता हूं। वे हमारे मेहमान हैं। ट्रैफिक नियम बदल जाएंगे। आपको कई जगहों पर जाने से रोका जाएगा, लेकिन कुछ चीजें आवश्यक हैं। जी20 यह दिल्ली के लोगों की एक बड़ी ज़िम्मेदारी है। यह सुनिश्चित करना आपकी ज़िम्मेदारी है कि देश का तिरंगा शान से लहराए। अमेरिका को उम्मीद है कि जी20 में रूस-यूक्रेन युद्ध पर चर्चा होगी इधर अमेरिका ने उम्मीद जताई है कि रूस और यूक्रेन के बीच चल रहा युद्ध जी20 शिखर सम्मेलन में चर्चा के शीर्ष विषयों में से एक हो सकता है। इस शिखर सम्मेलन में अमेरिकी राष्ट्रपति जो बाइडेन समेत जी-20 देशों के नेता हिस्सा लेने वाले हैं। वहीं, भारत के जी20 शेरपा अमिताभ कांत ने कहा है कि संयुक्त राष्ट्र रूस-यूक्रेन युद्ध जैसे भू-राजनीतिक मुद्दों से जी20 की तुलना में कहीं बेहतर तरीके से निपट सकता है। जी20 वैश्विक विकास को बढ़ावा देने वाली एक आर्थिक संस्था है। दिल्ली पुलिस की ओर से मुख्य सचिव को लिखे गए पत्र के मुताबिक, विदेशी राजनयिक मुख्य आयोजन स्थल आईईसीसी प्रगति मैदान के अलावा राजघाट, आईएआरआई पूसा, एनजीएमए (जयपुर हाउस) जैसी जगहों का दौरा करेंगे। वे दिल्ली के मौर्य शेरेटन, ताज महल, ताज पैलेस, ली मेरिडियन, ओबेरॉय, शांगरी-ला जैसे विभिन्न होटलों में रुकेंगे। जहां से उन्हें कार्यक्रम स्थल पर आना-जाना होगा। तीन दिनों के दौरान एक विस्तारित यातायात सलाह जारी की जाएगी इन तीन दिनों के दौरान एक विस्तारित यातायात सलाह भी जारी की जाएगी। दिल्ली के कुछ इलाकों में कुछ समय के लिए सार्वजनिक यातायात पर रोक रहेगी। जाम से बचने और वीवीआईपी की सुरक्षा के लिए ऐसा किया जाएगा। कुछ इलाकों में शॉपिंग मॉल और बाजार भी बंद रहेंगे। वीवीआईपी मूवमेंट वाले इलाकों में या तो बसें रोक दी जाएंगी या वैकल्पिक रूट दिए जाएंगे। दिल्ली की सीमाओं के आसपास अंतरराज्यीय बस सेवाएं निर्धारित की जा सकती हैं। मेट्रो रेल चलती रहेगी लेकिन नई दिल्ली क्षेत्र में पड़ने वाले कुछ विशेष स्टेशन सुरक्षा कारणों से बंद रहेंगे। जी20 शिखर सम्मेलन के दौरान अस्पतालों और आपातकालीन सेवाओं के साथ-साथ रेल और हवाई यात्रा को स्पष्ट रूप से अप्रभावित रखा जाएगा। दिल्ली पुलिस की वेबसाइट पर एक वर्चुअल हेल्पडेस्क लॉन्च किया जाएगा, जिसमें उपलब्ध परिवहन और स्वास्थ्य सुविधाओं की सूची होगी। दूसरी ओर, लुटियंस दिल्ली में रहने वाले या जिन पर्यटकों के पास होटल की बुकिंग है, वे ऑटो रिक्शा और टैक्सियों से यात्रा कर सकते हैं। दिल्ली हवाई अड्डे से लुटियंस दिल्ली आने वाले लोगों को पहचान दस्तावेजों के उचित सत्यापन के बाद ही प्रवेश की अनुमति दी जाएगी। अधिकारियों ने कहा कि जी20 शिखर सम्मेलन के दौरान अंतरराज्यीय बसों को दिल्ली में प्रवेश की अनुमति दी जाएगी, लेकिन उनका अंतिम पड़ाव अंतरराज्यीय बस स्टैंड पर नहीं होगा। लोग एम्बुलेंस हेल्पलाइन के लिए 6828400604 पर कॉल कर सकते हैं। यह सेवा 7 सितंबर की रात से शुरू की जाएगी मेट्रो की एयरपोर्ट लाइन से हवाई अड्डे तक यात्रा करने की सलाह वहीं, 8 से 10 सितंबर तक जी20 शिखर सम्मेलन के मद्देनजर इंदिरा गांधी अंतर्राष्ट्रीय हवाई अड्डे (आईजीआई) तक सड़क यात्रा प्रभावित रहेगी और यात्रियों को सुचारू और निर्बाध यात्रा के लिए मेट्रो की एयरपोर्ट लाइन से यात्रा करनी होगी। हालांकि, जो लोग अपने वाहनों के माध्यम से शहर और एनसीआर क्षेत्रों के विभिन्न हिस्सों से हवाई अड्डे तक यात्रा करना चाहते हैं, उनके लिए विशेष व्यवस्था की गई है। जी20 शिखर सम्मेलन के दौरान प्रतिनिधियों और अन्य आगंतुकों की सहायता के लिए प्रमुख पर्यटन केंद्रों, हवाई अड्डों, रेलवे स्टेशनों और आईएसबीटी पर विशेष रूप से सभ्य व्यवहार में प्रशिक्षित लगभग 400 पुलिसकर्मियों को तैनात किया जाएगा। ‘पर्यटक पुलिस’ कहे जाने वाले बहुउद्देश्यीय वाहनों में काम करने वाले इन कर्मियों को स्मारकों, लोकप्रिय बाजारों, हवाई अड्डे के टर्मिनलों, अंतर-राज्य बस टर्मिनल (आईएसबीटी) और रेलवे स्टेशनों जैसे 21 स्थानों पर तैनात किया जाएगा। जी20 शिखर सम्मेलन के लिए निर्बाध बिजली आपूर्ति सुनिश्चित करने के लिए अधिकारी नवीनतम तकनीक का भी उपयोग कर रहे हैं और आयोजन स्थल प्रगति मैदान में कई बैकअप बनाए गए हैं। बिजली वितरण कंपनी बीएसईएस ने प्रगति मैदान में तीन अलग-अलग बिजली स्रोत स्थापित करके आपूर्ति बढ़ा दी है। इन उपायों के अलावा, बीएसईएस प्रगति मैदान में 24 घंटे का नियंत्रण कक्ष स्थापित कर रहा है, जिसमें किसी भी समय 20 अनुभवी कर्मचारी तैनात रहेंगे।


RELATED ARTICLES

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisment -
Google search engine

Most Popular

Recent Comments