Friday, March 1, 2024
No menu items!
Google search engine
Homeजनमंचसनातन धर्म को गाली देना क्या कांग्रेस और घमण्डिया गठबंधन की नीति...

सनातन धर्म को गाली देना क्या कांग्रेस और घमण्डिया गठबंधन की नीति है : धमेंद्र प्रधान  

नई दिल्ली। तमिलनाडु के खेल और युवा कल्याण मंत्री उदयनिधि स्टालिन के सनातन धर्म पर दिए बयान को लेकर भाजपा ने विपक्ष पर हमला बोला है। भाजपा ने कहा कि घमण्डिया गठबंधन के नेताओं में भारत की सभ्यता को, मूल आस्था को, सनातन धर्म को, हिंदू धर्म को गाली देने, कोसने और अपमानित करने की एक प्रतियोगिता सी शुरू हो गई है। केंद्रीय मंत्री धर्मेंद्र प्रधान ने कहा कि तीन दिन पहले यह घटना हुई। यह अनायास या अचानक नहीं हुई है। एक सेमिनार में उदयनिधि ने ऐसा बोला है। उससे पहले घमण्डिया गठबंधन की बैठक हुई, जिसमें वो संयोजक और नेता तय नहीं कर पाए, लेकिन ‘सनातन धर्म’ को नीचा दिखाने की नीति तय कर ली। धर्मेंद्र प्रधान ने कहा कि कभी उदयनिधि, कभी कार्ति चिदंबरम, कभी प्रियंका खड़गे, कभी बिहार के शिक्षा मंत्री, कभी अखिलेश यादव के प्रमुख नेता स्वामी प्रसाद मौर्य और कभी केजरीवाल के नेता गौतम, ये सब एक योजना के तहत अलग-अलग समय पर इस काम में लग गए हैं। भारत में जन्म लेने वाले सभी पंथ-सम्प्रदाय, सभी उपासना पद्धति और सभी मत सनातन के अंश हैं। केंद्रीय मंत्री ने कहा कि अभी-अभी कांग्रेस के प्रमुख नेता वेणुगोपाल ने तो सारी हदों को पार कर दिया है। उन्होंने कहा कि कांग्रेस सर्व धर्म सम भाव में विश्वास करती है, लेकिन कांग्रेस पार्टी अभिव्यक्ति की स्वतंत्रता का भी सम्मान करती है। हम पूछना चाहते हैं कि क्या सनातन धर्म को गाली देना, हिंदू धर्म को गाली देना कांग्रेस और घमण्डिया गठबंधन की नीति है?

धर्मेंद्र प्रधान ने कहा कि सुप्रीम कोर्ट ने बड़ी स्पष्टता के साथ कहा है कि कोई भी नेता समाज में तनाव पैदा करने वाला कोई भी काम न करे। 2014 से पहले भगवा आतंकवाद का शब्द लाया गया। इन्होंने भगवा आतंकवाद इसलिए कहा था, क्योंकि इनके पैरों के नीचे से जमीन खिसक चुकी थी। इसलिए समाज में तनाव और विद्वेष फैलाने के लिए इन्होंने एक नैरेटिव सेट किया था।

केंद्रीय मंत्री ने कहा कि जब काशी तमिल संगमम आयोजित किया गया, तब अनुभव हुआ कि तमिलनाडु के सर्व-समाज की श्रद्धा काशी विश्वनाथ जी से जुड़ी हुई है। जिनको तमिलनाडु के बारे में कुछ अता-पता नहीं है, वो राजनीतिक उद्देश्य से ऐसी बयानबाजी कर रहे हैं, जिस पर उनके नेता राहुल गांधी चुप हैं। केजरीवाल, नीतीश कुमार, तेजस्वी यादव, ममता बनर्जी, शरद पवार क्यों चुप हैं? धर्मेंद्र प्रधान ने कहा कि हमारी नीति सबका साथ, सबका विकास, सबका विश्वास और सबका प्रयास है। हमारा एजेंडा सुख-समृद्धि है, जबकि घमण्डिया गठबंधन की नीति नफरत, शंका, घृणा और विद्वेष फैलाना है।

RELATED ARTICLES

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisment -
Google search engine

Most Popular

Recent Comments