Tuesday, February 27, 2024
No menu items!
Google search engine
Homeखास खबरहिंदी क्षेत्रीय भाषाओं को सशक्त बनाने, बढ़ावा देने का माध्यम बनेगा: शाह

हिंदी क्षेत्रीय भाषाओं को सशक्त बनाने, बढ़ावा देने का माध्यम बनेगा: शाह

-शाह ने देशवासियों को दी हिंदी दिवस की शुभकामनाएं

नई दिल्ली। देशवासियों को आज हिंदी दिवस कीक शुभकामनाएं देते हुए केंद्रीय गृह और सहकारिता मंत्री अमित शाह ने कहा कि हिंदी का अन्य भारतीय भाषाओं के साथ कोई प्रतिस्पर्धा नहीं है, और यह बाद को मजबूत बनाने का मार्ग प्रशस्त करेगा। सोशल मीडिया के मंच एक्स पर अमित शाह ने कहा कि स्वतंत्रता आंदोलन के कठिन दिनों में हिंदी भाषा ने देश को एकजुट करने में अभूतपूर्व भूमिका निभाई। प्रत्येक स्वदेशी भाषा और बोली हमारी सांस्कृतिक विरासत का खजाना हैं। हर भाषा को सशक्त बनाकर ही हम एक सशक्त राष्ट्र का निर्माण कर सकते हैं। मेरा मानना है कि हिंदी क्षेत्रीय भाषाओं को सशक्त बनाने और बढ़ावा देने का माध्यम बनेगी। हिंदी क्षेत्रीय भाषाओं को मजबूत बनाने का मार्ग प्रशस्त करेगी। अमित शाह ने एक्स पर पोस्ट किए गए एक वीडियो संदेश में कहा। देश के स्वतंत्रता संग्राम के दौरान हिंदी के महत्व के बारे में बात करते हुए शाह ने कहा कि यह भाषा कई भाषाओं और बोलियों में बंटे देश में एकता की भावना पैदा करती है। संचार की भाषा के रूप में हिंदी ने देश में पूर्व से पश्चिम और उत्तर से दक्षिण तक स्वतंत्रता संग्राम को आगे बढ़ाने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई। देश में ‘स्वराज’ और ‘स्वभाषा’ की प्राप्ति के आंदोलन एक साथ चल रहे थे। स्वतंत्रता आंदोलन और आजादी के बाद हिंदी की महत्वपूर्ण भूमिका को देखते हुए संविधान निर्माताओं ने 14 सितंबर 1949 को हिंदी को राजभाषा के रूप में स्वीकार किया था। शाह ने कहा कि हमारी सभी भारतीय भाषाएं और बोलियां हमारी सांस्कृतिक विरासत हैं, जिन्हें हमें अपने साथ लेकर चलना है। उन्होंने यह भी कहा कि हिंदी ने कभी भी अन्य भारतीय भाषाओं के साथ प्रतिस्पर्धा नहीं की और न ही भविष्य में ऐसा करेगी और उन्होंने विश्वास व्यक्त किया कि हिंदी सभी स्थानीय भाषाओं को सशक्त बनाने का माध्यम बनेगी। उन्होंने कहा कि हमारी सभी भारतीय भाषाएं और बोलियां हमारी सांस्कृतिक विरासत हैं, जिन्हें हमें अपने साथ रखना है। उन्होंने कहा कि हिंदी ने कभी भी किसी अन्य भारतीय भाषा के साथ प्रतिस्पर्धा नहीं की और न ही भविष्य में ऐसा करेगी। हर साल 14 सितंबर को हिंदी दिवस मनाया जाता है। केंद्रीय गृह मंत्री ने आगे कहा कि गृह मंत्रालय का राजभाषा विभाग आधुनिक तकनीक का लाभ उठाकर भारतीय भाषाओं को समृद्ध करने और उन्हें सार्वजनिक प्रशासन, शिक्षा और वैज्ञानिक उपयोग की भाषाओं के रूप में स्थापित करने के लिए निरंतर प्रयास कर रहा है। शाह ने बताया कि देश में राजभाषा के संबंध में किए गए कार्यों की समय-समय पर समीक्षा करने के लिए संसदीय राजभाषा समिति का गठन किया गया था और इसे देश भर में सरकारी कामकाज में हिंदी के उपयोग में हुई प्रगति की समीक्षा करने की जिम्मेदारी दी गई थी और इसकी रिपोर्ट तैयार कर राष्ट्रपति को प्रस्तुत करें। मुझे आपको यह बताते हुए खुशी हो रही है कि इस रिपोर्ट का 12वां खंड राष्ट्रपति को प्रस्तुत किया गया है। 2014 तक रिपोर्ट के केवल 9 खंड प्रस्तुत किए गए थे, लेकिन हमने पिछले 4 वर्षों में केवल 3 खंड प्रस्तुत किए हैं। 2019 से सभी 59 मंत्रालयों में हिंदी सलाहकार समितियों का गठन किया जा चुका है और उनकी बैठकें भी नियमित रूप से आयोजित की जा रही हैं। देश के विभिन्न क्षेत्रों में राजभाषा के प्रयोग को बढ़ाने की दृष्टि से अब तक कुल 528 नगर राजभाषा कार्यान्वयन समितियों (टीओएलआईसी) का गठन किया जा चुका है। विदेशों में भी लंदन, सिंगापुर, फिजी, दुबई और पोर्ट-लुइस में नगर राजभाषा कार्यान्वयन समितियाँ गठित की गई हैं। भारत ने संयुक्त राष्ट्र में हिंदी भाषा के उपयोग को बढ़ावा देने के लिए भी पहल की है। केंद्रीय गृह मंत्री ने कहा कि राजभाषा विभाग द्वारा ‘अखिल भारतीय राजभाषा सम्मेलन’ के आयोजन की एक नई परंपरा भी शुरू की गई है। पहला अखिल भारतीय राजभाषा सम्मेलन 13-14 नवंबर 2021 को वाराणसी में और दूसरा सम्मेलन 14 सितंबर 2022 को सूरत में आयोजित किया गया था। उन्होंने कहा कि इस वर्ष तीसरा अखिल भारतीय राजभाषा सम्मेलन पुणे में आयोजित किया जा रहा है।

RELATED ARTICLES

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisment -
Google search engine

Most Popular

Recent Comments