Friday, March 1, 2024
No menu items!
Google search engine
Homeहमारी दिल्लीआप के निगम में सत्ता में आने के 8 माह बाद कूड़ा...

आप के निगम में सत्ता में आने के 8 माह बाद कूड़ा निस्तारन कार्य पड़ा है ठप : प्रदेश भाजपा

-दिल्ली भाजपा अध्यक्ष वीरेन्द्र सचदेवा आज सुबह पार्टी नेताओं, निगम पार्षदों एवं कार्यकर्ताओं के साथ गाज़ीपुर लैंडफिल साइट पहुंचकर किया निरीक्षण

नई दिल्ली। दिल्ली भाजपा अध्यक्ष वीरेन्द्र सचदेवा आज सुबह पार्टी नेताओं, निगम पार्षदों एवं कार्यकर्ताओं के साथ गाज़ीपुर लैंडफिल साइट पहुंचे जहाँ से कूड़ा निस्तारन को लेकर 2022 नगर निगम चुनाव से पूर्व आम आदमी पार्टी ने बड़े बड़े दावे किये थे पर आम आदमी पार्टी के नगर निगम में सत्ता में आने के 8 माह बाद कूड़ा निस्तारन कार्य लगभग ठप्प पड़ा है। इस अवसर पर उनके साथ नगर निगम के पूर्व महापौर एवं प्रदेश महामंत्री हर्ष मलहोत्रा एवं योगेन्द्र चंदोलिया, नगर निगम मे नेता विपक्ष सरदार राजा इकबाल सिंह, विधायक अनिल वाजपेयी, निगम पार्षद एवं स्थाई समिति के पूर्व अध्यक्ष संदीप कपूर, प्रदेश मंत्री इम्प्रीत सिंह बख्शी आदि थे। दिल्ली भाजपा के अध्यक्ष वीरेन्द्र सचदेवा आज पार्टी नेताओं एवं कार्यकर्ताओं के साथ गाज़ीपुर लैंडफिल साइट पर पहुँचे और वहाँ लगभग 8 माह से ठप पड़े कूड़ा निस्तारन कार्य को उजागर किया।

सचदेवा ने कहा की नवम्बर 2022 के नगर निगम चुनाव से पहले आम आदमी पार्टी दिल्ली की तीनों लैंडफिल साइट को लेकर खासकर गाज़ीपुर लैंडफिल साइट को लेकर बयानबाज़ी करती थी और सत्ता मे आते ही इसकी सफाई करने के बड़े बड़े दावे करती थी पर आज 8 माह बाद स्थिती ठीक विपरीत है — गाज़ीपुर से अधिक से अधिक 800 से 1000 मैट्रिक टन कूड़े का दैनिक निस्तारन होता है पर यहाँ रोज़ लगभग 2500 मैट्रिक टन गीला बदबूदार कूड़ा नया डल रहा है – नतीज़ा यहां कूड़े का नया पहाड़ उठ रहा है। सचदेवा ने कहा कि आम आदमी पार्टी एवं मुख्य मंत्री अरविंद केजरीवाल 2021-22 में अनेक बार राजनीतिक पर्यटन पर गाज़ीपुर लैंडफिल साइट आये पर नगर निगम मे सत्ता में आने के बाद से ना मुख्य मंत्री केजरीवाल ना महापौर डा. शैली ओबरॉय ने कभी गाज़ीपुर लैंडफिल साइट के लियें कोई ठोस योजना नही रखी। सचदेवा ने मुख्य मंत्री को चुनौती दी की वह दिल्ली वालों के सामने एक मीटिंग का रिकॉर्ड रखें जो उन्होने गाज़ीपुर सहित तीनों लैंडफिल साइट से कूड़ा निस्तारन समीक्षा को लेकर कई हो। मुख्यमंत्री ने जनवरी 2024 तक तीनों लैंडफिल साइट साफ करने का वादा दिल्ली नगर निगम 2022 चुनाव की दस गारंटी मे किया था पर आज स्थिती यह है की लैंडफिल साइटों पर कूड़ा घटने की जगह बढ़ रहा है। सचदेवा ने कहा है की सच यह है की गाज़ीपुर लैंडफिल साइट की जो भी उंचाई कम हुई है उसके पीछे तत्कालीन पूर्वी दिल्ली नगर निगम मे भाजपा शासन एवं सांसद गौतम गंभीर के अथक प्रयास रहे। सांसद गौतम गंभीर ने अधिकारियों के साथ यहाँ अनेक दौरे किये पर निगम मे आम आदमी पार्टी ने सत्ता मे आ कर अधिकारियों को सांसद की मीटिंगों में जाना से रोक दिया।सचदेवा ने बताया की 2019 के अंत मे एक रिपोर्ट अनुसार 140 लाख मैट्रिक टन कूड़े का पहाड़ गाज़ीपुर लैंडफिल साइट पर बन चुका था जिसके बाद तत्कालीन भाजपा शासन ने उसकी सफाई शुरू करवाई पर आम आदमी पार्टी ने इसको एक राजनीतिक प्रचार पर्यटन मुद्दा बनाया। मार्च 2022 तक तत्कालीन भाजपा शासित पूर्वी दिल्ली नगर निगम ने सभी नये टेंडर किये और जिस गाज़ीपुर में जुलाई 2019 में 140 लाख मैट्रिक टन कूड़ा था वहाँ सितम्बर 2022 में घट कर 85 लाख मैट्रिक टन कूड़ा रह गया था — पर खेद का विषय है गत 8 माह के आम आदमी पार्टी शासन मे मात्र 1.5 लाख मैट्रिक टन कूड़े के ही निस्तारन हुआ है और आज जब हम यहाँ गाज़ीपुर आये हैं उस वक्त यहाँ 83 लाख मैट्रिक टन के पुराने पहाड़ के साथ ही एक नया पहाड़ और खड़ा हो रहा है। सचदेवा ने बताया कि भलस्वा लैंडफिल साइट से जो हजारों टन मिट्टी रोज निकलती है उसे डी.डी.ए. द्वारा दी गई डंपिंग साइट पर भरा जा रहा है और केन्द्र सरकार की मदद से प्लास्टिक रसायन निस्तारन सीमेंट बनाने वाली आलटराटेक सिनेमा खरीद रही है। वीरेन्द्र सचदेवा ने कहा है की बेहतर होगा की अरविंद केजरीवाल झूठा श्रेय लेने की जगह दिल्ली वालों से झूठे सपने दिखाने के लियें क्षमा मांगे।

RELATED ARTICLES

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisment -
Google search engine

Most Popular

Recent Comments