Saturday, March 2, 2024
No menu items!
Google search engine
Homeखास खबरअयोध्या में रामलला की प्राण प्रतिष्ठा की तैयारियां जोरों सोरों से

अयोध्या में रामलला की प्राण प्रतिष्ठा की तैयारियां जोरों सोरों से

अयोध्या। उत्तर प्रदेश की अयोध्या नगरी में रामलला के अभिषेक की तैयारियां जोरों पर हैं। 22 जनवरी को वह ऐतिहासिक क्षण होगा जब रामला सदियों बाद इमारत में लौटेंगे। इस ऐतिहासिक पल को खास बनाने के लिए उत्तर प्रदेश सरकार ने आगे की तैयारी शुरू कर दी है। अयोध्या में राम मंदिर में प्रतिष्ठित रामलला के दर्शन के लिए अयोध्या आने वाले श्रद्धालु भगवान राम की विशाल आकृति के भी दर्शन कर सकेंगे। सरयू नदी के तट पर इस समय भगवान राम की 823 फुट ऊंची प्रतिमा बनाने की तैयारी चल रही है, जो दुनिया की सबसे ऊंची प्रतिमा के सारे रिकॉर्ड तोड़ देगी। इस प्रतिमा के प्रोटोटाइप को उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ पहले ही मंजूरी दे चुके हैं। सरयू तट पर जल्द ही स्थापना का काम शुरू होगा। प्रतिमा का निर्माण फिलहाल मानेसर में चल रहा है। दुनिया की निगाहें इस समय अयोध्या पर हैं क्योंकि मोदी सरकार ने भगवान राम की पवित्र जन्मभूमि पर भव्य राम मंदिर में रामलला के दर्शन के लिए हरसंभव प्रयास किए हैं। ऐसे में दुनिया की सबसे ऊंची प्रतिमा का खड़ा होना इस बहस को नए स्तर पर ले जाएगा। भगवान राम की इस मूर्ति को बनाने का काम हरियाणा के प्रसिद्ध मूर्तिकार नरेंद्र कुमावत को सौंपा गया था, जिनके मार्गदर्शन में इस मूर्ति का निर्माण वर्तमान में हरियाणा के मानेसर की एक फैक्ट्री में किया जा रहा है। यह मूर्ति पंच धातु से बनी है और इसकी कीमत 3,000 करोड़ रुपये है। भगवान राम की 823 फीट ऊंची यह मूर्ति पांच पवित्र धातुओं (पंच धातु) से बनी है। इसमें 80% तांबा होगा. एक बार पूरा होने पर लागत लगभग 3,000 करोड़ रुपये होगी। इसका वजन करीब 13,000 टन होगा. अब 10 फुट लंबा प्रोटोटाइप तैयार किया जा चुका है और अंतिम बजट का इंतजार है।

RELATED ARTICLES

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisment -
Google search engine

Most Popular

Recent Comments