Monday, February 26, 2024
No menu items!
Google search engine
Homeखास खबरदिल्ली में अमित शाह से मिले चिराग पासवान, बीजेपी, राजद और जेडीयू...

दिल्ली में अमित शाह से मिले चिराग पासवान, बीजेपी, राजद और जेडीयू की अलग-अलग बैठकें हुईं

नई दिल्ली। बिहार के राजनीतिक परिदृश्य में उथल-पुथल के बीच, लोक जनशक्ति पार्टी (रामविलास) के प्रमुख चिराग पासवान ने शनिवार को राष्ट्रीय राजधानी में केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह के आवास पर उनसे मुलाकात की। गठबंधन को लेकर स्थिति काफी सकारात्मक है। आज शाह के आवास पर हुई बैठक में बीजेपी के राष्ट्रीय अध्यक्ष जेपी नड्डा भी मौजूद रहे। बैठक के बाद, पासवान ने संवाददाताओं से कहा कि राज्य में मौजूदा राजनीतिक स्थिति पर अगले कुछ दिनों में अधिक स्पष्टता सामने आएगी।  यह जानना महत्वपूर्ण था कि आज बिहार में क्या हो रहा है । इस मुद्दे पर, मैंने आज अमित शाह और जेपी नड्डा के साथ बैठक की। मैंने बिहार पर अपनी चिंताओं को उनके सामने रखा है । उन्होंने विभिन्न मुद्दों पर आश्वासन दिया है। स्थिति उन्होंने कहा कि गठबंधन को लेकर सरकार काफी सकारात्मक है। आने वाले दिनों में स्थिति और स्पष्ट हो जाएगी और उसके बाद हमारी पार्टी कोई स्टैंड लेगी। हम आज एनडीए का हिस्सा हैं। इस बीच बिहार की राजधानी पटना में भारतीय जनता पार्टी की कोर कमेटी की बैठक चल रही है। बैठक में बिहार के नेता प्रतिपक्ष और बीजेपी विधायक विजय कुमार सिन्हा, केंद्रीय मंत्री गिरिराज सिंह, बीजेपी सांसद और बिहार के पूर्व डिप्टी सीएम सुशील कुमार मोदी, केंद्रीय मंत्री नित्यानंद राय, बीजेपी बिहार अध्यक्ष सम्राट चौधरी शामिल हुए। जनता दल (यूनाइटेड) के पूर्व अध्यक्ष राजीव रंजन (ललन) सिंह आज पटना में बिहार के सीएम नीतीश कुमार के आवास पर पहुंचे । साथ ही राष्ट्रीय जनता दल ( आरजेडी ) के कई नेता डिप्टी सीएम तेजस्वी यादव के आवास पर पहुंचे। विजय कुमार मंडल, ललित कुमार यादव, अब्दुल बारी सिद्दीकी, बिहार के कानून मंत्री शमीम अहमद और बिनोद जयसवाल ने पटना में बिहार के उपमुख्यमंत्री के आवास का दौरा किया। जेडीयू नेता केसी त्यागी ने कहा कि कांग्रेस के गैरजिम्मेदाराना और अड़ियल रवैये के कारण भारतीय गठबंधन टूटने की कगार पर है। 2000 में राजद सुप्रीमो लालू प्रसाद यादव के ‘जंगल राज’ के खिलाफ अभियान चलाने के बाद नीतीश पहली बार राज्य के मुख्यमंत्री बने। अब तक वह आठ बार मुख्यमंत्री पद पर रह चुके हैं। 2013 में, नरेंद्र मोदी की घोषणा के बाद 17 साल के गठबंधन के बाद नीतीश ने एनडीए से नाता तोड़ लिया।

RELATED ARTICLES

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisment -
Google search engine

Most Popular

Recent Comments